(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम घर में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घर अप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 31 जनवरी 2019

समस्त भाई- बंधू एवम माता बहिन , जे दिल्ली एनसीआर में निवास करैत छी सबगोटेक सादर आमंत्रित छी |

                                       
                                                
            |                                        
                                         विद्यापति गौरव मंच   
के तत्वधान  में  विद्यापति नगर  जलपुरा  ग्रेटर   नोएडा  में स्थित संस्था  अच्छी ,  माँ सरस्वति के  दुतीय  पूजा एही बेर भरहल  अछि | अहि  शुभमंगल दिन बाबा विद्यापति जी के मूर्ति ,  केंद्रीय  मंत्री  डॉ  महेश शर्मा जी के कर कमलो द्वारा अनावरण  सेहो  कायल जायत ,  अहि  शुभ  अवसर के उपलक्ष्य  में ,  संस्कृतक  कार्य क्रम  आ  सांध्य  भजन -कीर्तन  के सेहो आयोजन  अच्छी , जाहि में  अपनेक  उपस्थित  अनिवार्य अछि  |    माँ सरस्वति जी के पूजा के प्रसाद  ग्रहण करी  आ  आशिर्वाद प्राप्त करि , 
    धन्यवाद || 

                                            



शुक्रवार, 11 जनवरी 2019


                          || तिलासंक्रान्ति ||
                      " भरल चगेंरी मुरही चुरा "
                                       

उठ - उठ बौआ रै निनियाँ तोर ।
अजुका   पाबनि   भोरे   भोर ।।
पहिने  जेकियो   नहयबे  आई ।
        भेटतौ तिलबा रे मुरही लाइ ।।  उठ....

ई पावनि छी मिथिलाक पावनि
सब  पावनि   सं   बड़का  छी ।
भरल     चगेंरी      मुरही     चुरा
तिलवा   लाई   उपरका   छी ।।

उपर  देहिया  थर - थर  काँपय
        भीतर मनुआँ भेल विभोर ।।  उठ....

   चहल पहल भरि मिथिला आँगन
 अइ पावनि के  अजब मिठाई ।
आई   देत   जे   जतेक   डुब्बी
 भेटतै   ततेक   तिलबा  लाई ।।

मुन्ना   देखि  भरय   किलकारी
            जहिना वन में कोइलिक शोर ।।  उठ...

बुढ़िया   दादी   बजा   पुरोहित
छपुआ साडी   कयलक दान ।
तील चाऊर बाँटथि मिथिलानी
    एहि पावनि केर अतेक विधान ।।

     "रमण" खिचड़ी केर चारि यार संग
              परसि रहल माँ पहिर पटोर ।।  उठ......

  गीतकार
     रेवती रमण झा "रमण"
   

  


मंगलवार, 9 अक्तूबर 2018

जय माता रानी -- आमंत्रण कार्ड

जय माता रानी  -- आमंत्रण कार्ड - 2018





सोमवार, 1 अक्तूबर 2018

jitiya pavain


शुक्रवार, 28 सितंबर 2018

रमण दोहावली

                         || रमण दोहावली ||
                                      


    1. तिनका - तिनका लाय के , जोरि लियो संसार ।
        "रमण" एकहि तूफ़ान में , डूब गयो मझधार ।।

    2. वो  चाहे  तो सब  करे , "रमण" मनोरथ  नहि ।
       मृत्यु जनम के जाल में , जीव सकल भव - माहि ।।

    3. नाही  हर्ता  कोउ  कर्ता ,  नाही  भोग  अभोग ।
        रे मनुआँ जिद नाहि कर , विधि का सब संयोग ।।

    4. झरेतो   पत्ता  देख  के  ,  झरे   जगत  के  नैंन ।
      जब बसन्त ऋतु आइहे , "रमण" मिले सुख चैन ।।

    5. मूरख  को  समझात  है , ज्ञानी  घर - घर जाय ।
       "रमण"  वारी  अब  तेरी , तुझे कौन समझाय ।।

    6. ज्ञान  करम  से  होत  है , करम  से  हो  अज्ञान ।
        मानुष ऐसा करम कर , "रमण" मिले भगवान ।।

    7. जाके  मन  मंदिर  भया  ,  हृदय  ज्ञान  आगार ।
         काबा काशी छारि के , "रमण" सुगम दरवार ।।

     8. दिनहि  गवाँयो  कपट  में , रात  गवाँयो  सोय ।
       धरम साँस एक नहि दियो , "रमण" तू काहे रोय ।।

     9. पंडित   फेरे   डाल   दी , जीमै   सकल   बरात ।
        दिल  दरिया  तूफ़ान  में  ,  गई  सुहागन  रात ।।

                                   रचनाकार
                          रेवती रमण झा "रमण"
                          mob - 9997313751
                                         

                                        

बुधवार, 4 जुलाई 2018

मिथिला क्रान्ति सन्देश - रेवती रमण झा "रमण"

                || मिथिला क्रान्ति सन्देश ||
                                       
  घायल     नहिं     खाली    भाषा 
  पौरुषे    भेल    अछि    घायल ।
 क्रान्ति - वाहिनी  कफन बान्हि
  ललकार   दैत   अछि  आयल ।
       पराधीनहि   जे    रहि  कS   जीबैए  
   भाषा   अनके  जे  सब  दिन  बजैए
  ओ अइ रखने अपन वियर्थ जीवन
    द्वारि  अनकर  जे  सबदिन  निपैए
                                  पराधीनहि जे.......
 मातृ-स्नेहके  जे  बिसरि  गेल  अइ
    अपन अधिकारर्सँ जे ससरि गेल अइ
    ओकर  कुकुरो  सं  वत्तर  छै जीवन
  सतत्   अनकर   जे   तीमन  चटैए
                                   पराधीनहि जे.......
 की  भरोसे करू  संग कक्कर  देतै
   जे ने मायक भेलै ओकि अनकर हेतै
          सुधा-सरिता बिसरि कS अपन मैथिलीक
   घोरि    माहुर    जे    अपने    पिबेए
                                       पराधीनहि जे.......
        चुप मिथिला के वासी कियक भेल छी
        मातृ भाषा कि  अप्पन बिसरि गेल छी
        दुष्ट  देलक  दखल   यौ  अहाँक  घरमे
        गीत      देखू     विजय    केर     गवैए
                                    पराधीनहि जे.......
       ताकू एम्हरो,ककर आँखि नोरे भरल
       एक  अवला बेचारी  बिपति में पड़ल
        "रमण" देखू अतय लाख संतति जकर
        चुप    करै    लै    ने   एक्को    अबैए
  पराधीनहि   जे  रहि   कS  जीबैए
   भाषा अनकर  जे सब  दिन  बजैए

रचनाकार
        रेवती रमण झा "रमण"  
MO -9997313751   
       


            

बुधवार, 27 जून 2018

मिथिला मैथिलि के एकटा और उपलब्धि-

मिथिला मैथिलि  के एकटा और  उपलब्धि-