(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम घर में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घर अप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 21 जून 2018

मिथिकला केर थि इहय दलान - रेवती रमण झा " रमण "

                                                   

   कहाँ     गेलौ     यौ     बैसु    बाउ ।
    लिय    तमाकुल    तेजगर    खाउ ।।
   पढ़ि लिखि करब छीलब की घास ।
    विदाउट  इंग्लिश  परमोटेड  पास ।।

   धरु      अपन     पुस्तैनी      पेना ।
     पूर्व    पितामह    कैलनि     जेना ।।
    करू     घूर     करसी     सुनगाउ ।
     खटरस     चुटकी    बात    बनाउ ।।

    इंजीनियर   भेल  कते  कनै  छथि ।
     झामगुरि     सब    दिन   गनैछथि ।।
   पढ़ि लिखि करत कहु की क कय ।
     घरक   कैंचा    अपन     द    कय ।।

    होउ   दियौ   चुटकी   सरिया  कय ।
    फुरत   बात   तखन  फरिया  कय ।।
    तेजगर    पात    तमाकुल    मगही ।
     चुनबैत   लागत  खन-खन   बगही ।।

    सेकू    हाथ    दुनू    सरिया    कय ।
     लीय   तमाकुल  चून   मिला   कय ।।
    नोकर     चाकर   अनकर   नोकरी ।
      तै    सं   अपन    उठायब    टोकरी ।।

    ओ    कि   माइक    जनमल    बेटा ।
      हम    की    माइक   उपजल    टेटा ।।
     उपजायब    खायब    घर     चोकर ।
      कलम   वला   के    राखब   नोकर ।।

     सब   सं   बुद्धिक    बुद्धू   हम   ही ।
     मोछक     उठल     हमरो     पम्ही ।।
     हम  की   माउग   थिकौं   अग्यानि ।
      अनकर    बात   लेबै   हम    मानि ।।

     होउ    तरहथ    दय   दीयौ   चाटी ।
      अंग्रेजिया       छोरु        परिपाटी ।।
     उरत   चून    नहि    काटत    ठोरो ।
     कि, धरफर  करू  गिनै  छी  कोरे ।।

    पान  करू  रस  चुसि - चूसि  कय ।
     मिथ्या   नै  छी  कहैत  फूसि  कय ।।
     खोलू     पानबटा      परसू     पान ।
      ई   मिथिला   केर    थिक   दलान ।।

रचयिता
रेवती रमण झा " रमण "




गुरुवार, 7 जून 2018

MAITHILI PANCHANG - 2018-19

 MAITHILI PANCHANG - 2018 -19 





मंगलवार, 5 जून 2018



सादर नमस्कार,
   ग्रेटर नोएडा के स्वयंसेवकों ने ऎच्छर गाँव में एक पुस्तकालय प्रारम्भ किया है, जिसकी विशेषता है कि यह पुस्तकालय उन पुस्तकों से बनाया गया है, जो रद्दी में बिकने को तैयार थीं.
स्वयंसेवकों की इस मुहिम को समाज का भी समर्थन मिल रहा है एवं लोग पुरानी पुस्तकें, पत्रिकायें और साहित्य दान दे रहे हैं. अब तक पुस्तकालय में 1000 से अधिक पुस्तकें आ चुकी हैं.
यह पुस्तकालय नि: शुल्क है एवं प्रात: 10 बजे से रात्रि 8 बजे तक खुला रहता है.
बीते दिनों इस पुस्तकालय को ज़ी न्यूज ने कवर किया, जिसकी रिपोर्ट उनके यू ट्यूब चैनल पर है.

https://youtu.be/1KVpkDNTh1o



पुस्तकालय में आप सभी का स्वागत है. आप चाहें तो अपनी रद्दी में जाने वाली पुस्तकें यहाँ दान कर सकते हैं.
पता:- कार्तिकेय विद्या केन्द्र, प्रथम तल, शिवम कॉमप्लेक्स, ऎच्छर गाँव ग्रेटर नोएडा.  मोबाईल :- 9958092091

सादर--
अवधेश.

शनिवार, 28 अप्रैल 2018

अपन गाम अपन बात: आम का आम और गुठली के दाम , से किया आउ देखु

अपन गाम अपन बात: आम का आम और गुठली के दाम , से किया आउ देखु: आर्यु र्वैदिक मतानुसार आम के पंचांग (पाँच अंग) काज अबैत अछि। एही वृक्षक अंतर्छाल केर क्वाथ प्रदर, खूनी बवासीर आ फेफड़ा वा आँत सँ रक्तस्...

गुरुवार, 26 अप्रैल 2018

तोहर बाजब वर अनमोल- रेवती रमण झा " रमण "

   


                       तोहर  बाजब  वर  अनमोल
                       अनमन कोयली सनके बोल
                       गै   तोहर   की   नाम  छौ ।।

          चुपके सं निकलै छै घर सं घेला काँख दबाक गे
          साँझ प्रात तूँ पैर रोपै छै पोखरिक भीरे जाक गे
          के देतौ पानिक तोहर मोल
          गंगा की हेती अनमोल।।             तोहर .........

         उल्टा आँचर उल्टा माटी उलट पलट तोर बाजब गे
         ई  हमरा  वर नीक लगैया नव  नव तोहर साजब गे
         खन - खन चुड़िक मधुर बोल
         खोलौ सबटा तोहर पोल ।।         तोहर ..........

         चिड़इक  पाँखि  सनक  चंचलई  तोहर दुनु नैना गे
         पलक पलंगरी पर छन भरि लय
         चाही मोरा रयना गे ।।                तोहर ..........

                                    गीतकार
                         रेवती रमण झा " रमण "
                                       

बगुला त ठामे अइ हँस सब चलिगेल - रचयिता - रेवती रमण झा " रमण "

  
              की कहियौ रौ बौआ, युगे बदलिगेल ।
              बगुला त ठामे अइ , हँस सब चलिगेल
                                                   की कहियौ.......
              मोर तअ बैस गेल , नाँचय सब कौआ
              जितगरहा एक नै ,  देखहिन रौ बौआ
              गिदराक ज्ञान सुनी ,निरबुधिया पलिगेल
                                                   की कहियौ........
              पूतक  पोथी  नई   बाप  पढ़ि  पौलक
              हाथी  में  बल    कते   चुट्टी   बतौलक
              ज्ञान ध्यान गीता सहजहि निकलि गेल
                                                   की कहियौ........
              वहिरा     बौका     बनल       पटवारी
              चोरे    उचक्का   अइ  मठक   पुजारी
             "रमण" पिवि तारी रौ मोने मचलि गेल
                                                   की कहियौ........

                                   रचयिता
                         रेवती रमण झा " रमण "
                             mo 9997313751
                                        


           

बुधवार, 4 अप्रैल 2018

शब्दानुप्रास अलंकार - रेवती रमण झा " रमण "

                       सरस्वती वंदना

                      शीतल सलिल सरोवर सरसिज

                    श्वेताम्बर    शुभ      सरस्वती ।
                    सरगम - सार सितार सुशोभित
                    सींचू     सुललित     सदमती ।।


                              || प्रभात ||

                         अलंकृत आसमान अरुणोदय

                   आभा  अवनि  अनल  अछि ।
                   अंडज  अट्टहास   आद्र   अति
                   अलंकार     आनल     अछि ।।
                   अचला अम्बुधि  अम्ब अम्बुज
                   अछि    अभिनव   अभिरामा ।
                     अलि अरविन्द अथिर अति आनन
                   अवलोकन         अविरामा   ।।
                   आन्तरिक्ष अम्बुद अम्बर अली
                   अनिल      अम्र    ओछायल ।
                   आरसि अवनि आप अब्ज अछि
                   अंशुमालि    ओहि  आयल  ।।



                            || भोरक बेला ||


                               उमगत     उष्म     रश्मि

                         उदिय       मान     उनत 
                         उर्वि  उदय   उषा  उदित
                         उचकि  -  उचकि   उठत
                         उदधि     उदक    उत्पल
                         उन्मादिनी   उरज  उभय
                         उज्जवल उदन्वान उठल
                         उमगत उर उनमाद उदय
         



                       || पनिहारिन ||
               कर कण्ज कुम्भ कटी कसी कल्पी

               कंजुक कली कोमल कोकनद कल
               कुमकुम   कपोल   कोमल   कुशुम
               कुशुमित   कलाघर   कवि     कहय
               काकोबर      कच     कंठ     कक्षप
               कर   कान   कंगन   किरण   कंचन
               करुण     कोमल     कुहुकि     कीर
               कृशानु    कल    कर   कोउ   कहय
               किसलय    कलेवर     कल   कमल
               कन्दर्प            काल          कामिनी
               कापर       करौ      कलत्र     केश  ?
               कंत        कात      कहौ        कासौ
               कुवलय         कुलंकषा ,        कहाँ
               कवन्ध      काल        कैसे      कहौ

                   ||   स्नातक  ||
                     स्हर सदन सँ सखि सरि संजुत

                   स्नातक   सर   सुन्दरि  समुदाई
                   सुमन  सुवेष  सकुल  सुगन्धित
                   सरिता  सलिल   सरोज  सुहाई
                   श्लाद्दया     शुचि      शुदामिनी
                   श्रीफल       सोह      सौकुमार्य
                   स्निग्ध   शुधाग्रह    सोह   शुक
                   सयानी  सकल   सनहुँ  सुकार्य
                   शतदल   सुत     सजाउ   सीथ
                   शम्बर     सुन्य     सर्व    सुजल
                   श्यामा      सोह     सोमु    सुन्य
                   स्वामी      सुभामिनी      सकल
                   समय  सखी  सुख  पूँज  सोलह
                   सुमन    सेज     सुवास   समाने
                   सतत  सवल  शरीर  सारंग  शर
                   सहस्त्र         सहौ        समधाने




                         || आलिंगन क्रीड़ा  ||

                   पचि - पचि परसय पति प्रगति पंथ पद

               पेखिय    प्रतिबिम्ब      पड़ी    प्रमुदित
               पुट     -    पाणी   पचारि    पयोधर   पै
               पशुपति      प्रतिदुन्द       प्रबल    प्रमत
               पति      पौरुष      परुष     प्रहार    प्रेम
               पिड़ित       प्रतिकूल     पडी     पतिपय
               पसेउ     -     पसेउ     पटु    पाय    पोच
               पैहहि    पति    पुन     -    पुन     परसय





                           || छलक  छुरी ||

                                छटपटाइत छातीक छिहुलैत

                        छोटछीन    छौडीक       छवि
                        छिरिआयल छाताक छाँहे छल
                        छानविन  छनेत  छुब्ध  छी
                        छिटकैत छल ,छल छुपकल
                        छिटने       छ्ल        छाउर
                        छौडी    छाँटलि     छेटगरि
                        छलक        छूरी         छ्ल



                             ||  चमचाक चालि  ||

                              चतरल   चहूँ   चमचाक  चाईल

                       चटपट चक्षुक चमत्कारे चिन्हैत
                       चाहक   चुस्कीए   चूसि  - चूसि
                       चिल्हक        चोखगर       चोचे
                       चियारैत       चमड़ी     चिबाबैत
                       चंडाल        चोभि     -     चोभि
                       चमडीक     चुम्बकीय      चटक
                       चानक       चादरि      चिन्हाबेत
                       चमकैत       चपलाक      चमके
                       चुपचाप           चित्त             के
                       चहटगर       चटकार      चटाबैत
                       चितासनक      चादरि     चढ़बैत
                       चटैत            चतुर          चमचा
                       चरण    चाँपि      चुट्टिक    चालि
                       चतरल    चहुँ    चमचाक   चालि



                                   रचयिता

                               रेवती रमण झा " रमण "

                              Mob - 09997313751

                                 


            

बुधवार, 21 मार्च 2018

चैतावर

|| चैतावर || 

चैतक        चमकल       इजोरिया 
बलमू   मोरा    मन   तरसाबै    रे | 
रहि -   रहि     कुहकै    कोयलिया  
बलमु     मोरा     मन  तरसाबै  रे || 
            चैतक  --- बलमु --
फुलवन में भँवरा ,करै रंगरेलिया  |
लायल      वसन्तो      बहुरिया   ||
बलमू       मोरा    मन  तरसाबै   रे
                  चैतक  --- बलमु --

पियु -पियु पपिहा ,करै अधिरतिया |
लिखल       सनेहक         पतिया  | |
बलमू      मोरा      मन   तरसाबै   रे
                       चैतक  --- बलमु --
नेमुआँ  फुलायल , अमुआँ  मजरल |
फ़ुलल         जूही          चमेलिया   ||
बलमू       मोरा       मन   तरसाबै   रे
                        चैतक  --- बलमु --
"रमण " पथिक ,पथ प्राण पियासल |
गोड़ियाक    छलकल     गगाड़िया  ||
बलमू       मोरा      मन  तरसाबै   रे
  चैतक  --- बलमु --
लेखक -
रेवती रमण  झा "रमण "